Posted by: ramadwivedi | मार्च 15, 2007

आसान नहीं

              चुप-चुप रहकर आंसू पीना,
              आसान न यह ग़म होता है।
              मिट-मिट करके जीते जाना,
              आसान न यह दम होता है॥

              बंधुआ बन-बन करके जीना,
              आसान न वो मन होता है।
              तप-तप कर कुछ बनते जाना,
              आसान न यह फ़न होता है॥

              तन का बंधन, मन का क्रंदन,
              यह बोझ न कुछ कम होता है।
              कोल्हू के बैल सा चलते जाना,
              आसान न यह श्रम होता है॥

              सच्चाई पर चलते जाना,
              आसान न यह पथ होता है।
              उम्मीदों पर जीवित रहना,
              आसान न यह भ्रम होता है॥

                डा. रमा द्विवेदी

© All Rights Reserved

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

श्रेणी

%d bloggers like this: