Posted by: ramadwivedi | अप्रैल 3, 2007

संबंधों पर क्षणिकाएं

१- संबंधों में दूर तक पसरता,
     स्नेहहीनता  का,
     बेशुमार मरूस्थल,
     स्नेह की तलाश में,
     छटपटाता आदमी,
     तपती रेत पर एक बूंद सा,
     सूख गया है ।

 २- मरूस्थल बने संबंध सब,
     आत्मीयता -स्नेह की निर्झरिणी
     सूख गई है,
     स्नेहहीन रिश्ते,
     छ्टपटा रहे हैं,
     तपती रेत पर,
     एक बूंद स्नेह के खातिर।

        डा. रमा द्विवेदी

© All Rights Reserved

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

श्रेणी

%d bloggers like this: