Posted by: ramadwivedi | अप्रैल 14, 2008

जीवन का यह चलन

             पवन चले सनन-सनन मेरे देश में,
             पायल बजे छनन-छनन मेरे देश में।

             शहनाइयाँ कहीं बज रहीं,
             ड़ोलियाँ कहीं सज रहीं,
             कंगना करें खनन-खनन मेरे देश में…
             पवन चले सनन-सनन मेरे देश में।

             बगिया कहीं महक रही,
             कहीं तितलियाँ बहक रहीं,
             भौरे फिरैं चमन-चमन मेरे देश में..
             पवन चले सनन-सनन मेरे देश में।

             कहीं बदलियाँ बरस रहीं,
             कहीं सजनियाँ तरस रहीं,
             आँसू गिरैं घनन-घनन मेरे देश में…
             पवन चले सनन-सनन मेरे देश में।

             हिमगिरि कहीं विराट है,
             सागर कहीं विशाल है,
             नदियाँ बहैं मगन-मगन मेरे देश में..
             पवन चले सनन-सनन मेरे देश में।

            कहीं योगी तप मेम लीन है,
            कहीं भोगी रस-विलीन है,
            जीवन का यह चलन-चलन है नेरे देश में..
            पवन चले सनन-सनन मेरे देश में।

                डा. रमा द्विवेदी

              © All Rights Reserved

 

 

 

 

Advertisements

Responses

  1. हिमगिरि कहीं विराट है,
    सागर कहीं विशाल है,
    नदियाँ बहैं मगन-मगन मेरे देश में..
    पवन चले सनन-सनन मेरे देश में।

  2. अतुल जी,

    आपका हार्दिक आभार ….


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

श्रेणी

%d bloggers like this: