Posted by: ramadwivedi | मई 13, 2008

परजीवी लता नहीं बनना है

  हमें परजीवी लता नहीं बनना है,
           जड़-जमीन हीन,अस्तित्व विहीन,
           दी्न-हीनता   को  तजना  है,
          हमें परजीवी लता नही बनना है। 

           न रहो कभी किसी  की आश्रिता,
           खुद बनकर  स्वावलंबी बनो हर्षिता,
           हमें खुद अपना संबल बनना है ।
           हमें परजीवी लता नहीं बनना है ||

न करे हमारा कोई शोषण-कुपोषण,
           सावधान   रहना  है  हमको  हरदम,
           हमें  अपनी रक्षा खुद करना है।
           हमें  परजीवी लता नहीं बनना है॥ 

           पराश्रिता का न होता कोई सम्मान,
           जो भी चाहे करते हैं उसका अपमान,
           ऐसे  जीवन  को  हमें  बदलना है।
           हमें  परजीवी  लता नहीं  बनना है॥ 

           हर  खुशी  हमारी  थाती  है,
           हम हरदम मुस्काती- गाती हैं,
           हर  मधुमास हमारा अपना है।
           हमें परजीवी  लता नहीं बनना है॥ 

          यह   राह   बड़ी   है    पथरीली,
          हरदम  पलकें  होतीं  गीली,
          हर कदम पे हमें संभलना है।
          हमें   परजीवी  लता नहीं बनना है॥

             डा. रमा द्विवेदी

          © All Rights Reserved   

Advertisements

Responses

  1. सुन्दर और सही विचार।

  2. आत्‍मविश्‍वास पूर्ण सुंदर कविता.

  3. बहुत बढ़िया, बधाई.

  4. रमा जी,

    यह राह बड़ी है पथरीली,

    हरदम पलकें होतीं गीली,

    हर कदम पे हमें संभलना है।

    हमें परजीवी लता नहीं बनना है॥

    बेहतरीन रचना..

    ***राजीव रंजन प्रसाद

  5. शोभा जी, त्यागी जी, समीर जी एवं राजीव जी,

    रचना की सराहना के लिए आप सबका हार्दिक आभार….स्नेह बनाए रखें….

  6. बहुत ही अच्छी कविता ….. आत्मविश्वास बढ़ानेवाली

  7. Respected dr Sahib
    I appreciate your suggestion specially for fairer sex on getting empowered.congratulations it is a very good poetry.Regards
    Dr Vishwas Saxena

  8. Dr.Vishwas ji,

    Thanx a lots for appreciation….

    Dr.Rama Dwivedi


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

श्रेणी

%d bloggers like this: