Posted by: ramadwivedi | मार्च 20, 2009

हाइकु -3

१- हँसी ठिठोली,
चितचोर की होली
राधा लजाई ।

२- गुलाबी ठंड़
रंगों की बरसात
अंगिया भीगी ।

३- प्रेम का रंग
राधा कान्हा मगन
चूनर लाल ।

४- उगती धूप
गुनगुनाती धरा 
आया वसंत ।

५- अमवा डाल
कूकती कोयलिया
प्रिय की प्यास ।

६- मन उदास
प्रियतम विदेश
गरजे मेघ ।

७- जिया धड़के
घन-घन बरसे
पलकें बंद।

८- प्यार की प्यास
दहकता पलाश
बसंत साथ ।

९- महुआ फूला

मादक रस-गंध

ॠतु प्यार की।

१०- बदरा घिरे
अंग-अंग महका
मोर चहका।
डा.रमा द्विवेदी
© All Rights Reserved

Advertisements

Responses

  1. बहुत खूब । सुन्दर भाव प्राकृतिक रचना । बधाई

  2. सुन्दर!

  3. राधा यूं बोली
    कान्हा करो न जोरी
    हंसी ठिठोली:)

  4. सुन्दर!

  5. mausam bakaayada aapne apne haaeeku se manja hai bahot khub…likha hai aapne… ek shanka hai kya gandh shab ka prayog sahi hai sakaaratmakata ke liye… ..meri baat ko anyatha naa le meri shanka hai isliye jaanane ki iksha jaahir ki hai … lekhan bidha sikhne ki prakriya me hun isliye puch baitha…

    arsh

  6. बहुत ही सुंदर अभिव्यक्ति। बधाई।

  7. निशू जी,समीर जी,चन्द्रमौलेश्वर जी,डा.मनोज जी, अर्श जी एवं अहमद जी,

    आप सभी का हार्दिक आभार….अपना स्नेह बनाए रखें…..सादर…

    अर्श जी आपने पूछा है कि क्या ’गंध’ शब्द का प्रयोग सही है बिल्कुल सही है क्यों कि महुआ में एक अजीब तरह महक होती है जो दिलोदिमाग पर छा जाती है।मैं यहा‘ं पर उसके फल की बात कर रही हूँ…महुए से शराब भी बनती है शायद आपको पता हो…फिर मैंने जो लिखा है उसके प्रतीकात्मक अर्थ भी हैं……आशा है आप अब समझ गए होंगे ।

    डा.रमा द्विवेदी

  8. वाह जी वाह दोबारा होली हो ली बेहतरीन हाइकु

  9. all r lovely

    Good written. congratulation.

  10. respected dr sahib
    after a long time I am getting a fresh feeling .Your poetry is so close to nature and what a beautiully it scatches changing seasons with the changes visible in environment.you have sketched a heavenly scene heads off to you.Your poetry reminds me of human season written by john keats!
    Regards and wishes
    Dr Vishwas Saxena


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

श्रेणी

%d bloggers like this: