Posted by: ramadwivedi | फ़रवरी 9, 2010

भावनाएँ बर्फ़ बन गईं

        

      मानव की भावनाएँ आज बर्फ़ बन गईं,
      ज़िन्दगी की हर खुशी बस दर्द बन गईं।
 
      मीठा जहर पिला रहा मानव को मानव आज,
      प्रतिशोध की आग में सब जर्द बन गईं  ।
 
     इन्सानियत को ढूँढ़ते सदियाँ गुजर गईं,
     इंसा को इंसा डस रहा बस सर्प बन गईं ।
 
     हर खुशी का लम्हा है दहशत भरा हुआ,
     ज़िन्दगी की धड़कनें  बस सर्द बन गईं।
     विश्वास भी तो जल गया नफ़रत की आग में ,
     इंसान की हर ख़्वाहिशें बेदर्द बन गईं।
 
       डा. रमा द्विवेदी
© All Rights Reserved
Advertisements

Responses

  1. बेहतर…

  2. Dear Dr Sahib
    If this is the worlds scenario then lets come forward and gather some peace,love,charity,euphony again and mbilize this ailing world by compulsive spread of ‘good’ hither and thither,you have already begun by your poetry I request others to imbibe in behaviour and deeds.To begin with I am trying to initiate this social mobilisation hope my caravan shall be joined by many more.With compliments on your esteemed work.
    Dr vishwas Saxena

  3. डा. विश्वास जी,
    आपने सही कहा -सभी लोग कोशिश करें तो समाज को दिगभ्रमित होने से बचाया जा सकता है..पहल तो किसी न किसी को करनी पड़ेगी शुरुवात आप कीजिये लोग अपने आप जुड़ते जायेंगे….हार्दिक आभार…

    डा.रमा द्विवेदी


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

श्रेणी

%d bloggers like this: