Posted by: ramadwivedi | मार्च 11, 2010

सपने गढ़े जाते हैं

              सपने सच होते  नहीं 
               सपने गढ़े जाते हैं
               कुम्हार की मिट्टी की तरह ।
               अनगढ़ मिट्टी में
               सपनों के बीज नहीं  बोए जाते ।
               जैसे कुम्हार पहले मिट्टी को
               तैयार करता  है
               तब कल्पना का चक्र घुमाता है
               फिर उस पर मिट्टी का लोंदा रखकर
               हाथों की उंगलियों से
               मनचाहा रूप गढ़ता है
               सुखाता है और फिर आंवा लगाता है
               हर बर्तन को सलीके से उसमें रखता है
               निश्चित समय और ताप में पकाता है
               और जब निकालता है
               तब सभी बर्तन सही सलामत
               नहीं निकलते
               उसमें कुछ चटक जाते हैं
               कुछ टूट जाते हैं
               सपने भी ऐसे ही होते हैं
               हक़ीकत की कठोर ज़मीन से
               जब टकराते हैं
               तब कुछ चटक जाते हैं
               और कुछ टूटकर बिखर जाते हैं
               बुद्धिमान वही है जो
               मनचाहा परिणाम न मिलने पर
               धैर्य नहीं खोता
               निराश नहीं होता
               और बार-बार कोशिश करता है
               क्योंकि निर्माण का कार्य
               बहुत कठिन जो होता है ।  

               डा.रमा द्विवेदी
               © All Rights Reserved
Advertisements

Responses

  1. बहुत गहरी रचना!

  2. धैर्य नहीं खोता
    निराश नहीं होता
    और बार-बार कोशिश करता है
    क्योंकि निर्माण का कार्य
    बहुत कठिन जो होता है ।

  3. “बुद्धिमान वही है जो
    मनचाहा परिणाम न मिलने पर
    धैर्य नहीं खोता
    निराश नहीं होता
    और बार-बार कोशिश करता है
    क्योंकि निर्माण का कार्य
    बहुत कठिन जो होता है।”
    सच्चा – बहुत तरीके और सलीके से लिखा गया सबक – आभार

  4. बहुत खूब!

  5. bahut khoob achha udahran diya he sapno aur kumhaar k bartano ka…sach kaha yathaarth ki dhara par kuchh sapne toot jate hai…lekin dhirye nahi khona chahiye.
    naya protsahan deti achhi rachna.

  6. अच्छी कविता है ।

  7. Dr sahib
    another good composition of yours.I know dreams ought to remain alive so long a man is alive.Dreams are the best guiding force to man.Regards
    dr vishwas Saxena

  8. बुद्धिमान वही है जो
    मनचाहा परिणाम न मिलने पर
    धैर्य नहीं खोता
    निराश नहीं होता
    और बार-बार कोशिश करता है
    क्योंकि निर्माण का कार्य
    बहुत कठिन जो होता है
    sach bahut hi gehre bhav liye,magar dilko ek prerna si deti sunder rachana hai.koshish hame karni hi chahiye har mod par.bahut jarurat hoti hai zindagi mein aise shabdon ki.sunder.

  9. nice

  10. thanx Nidhi Chadha ji


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

श्रेणी

%d bloggers like this: