Posted by: ramadwivedi | मई 8, 2011

माँ – हाइकु

१- होती नहीं माँ
हम-तुम न होते
सृष्टि न होती ।

२- माँ की दुआ से
पूरन हरकाम
मेरा विश्वास ।

३-स्वर्ग है कहीं ?
माँ के ही चरणों में
ढूँढ़ो तो सही

४- मिला जिसको
माँ का प्यार-दुलार
सब से धनी ।

५- घूमता चक्र
माँ के ही इर्द-गिर्द
हर रिश्ते का ।

६- माँ-सी दौलत
दुनिया में नहीं है
कल्पना करो।

७- माँ जो कलपे
सुख -समृद्धि जाए
लक्ष्मी न आए ।

८- माँ की सुशिक्षा
सुसंस्कारों की नींव
जीवनाधार।

९- रहेंगे ॠणी
कब चुका पायेंगे
माँ अनमोल ।

१०- माँ वन्दनीय
चौदह भुवन में
अतुलनीय !

डा. रमा द्विवेदी

© All Rights Reserved

Advertisements

Responses

  1. बेहतर…

  2. हार्दिक आभार ….


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

श्रेणी

%d bloggers like this: