Posted by: ramadwivedi | जून 11, 2011

आथर्स गिल्ड आफ़ इंडिया का अधिवेशन एवं काव्य गोष्ठी संपन्न


आथर्स गिल्ड आफ़ इंडिया का ३६ वां द्विदिवसीय अधिवेशन धनवटे सभागार(शंकर नगर,नागपुर) के महाराष्ट्र राष्ट्र भाषा सभा में गत २८ व २९ मई को संपन्न हुआ ।
पद्मश्री डा. श्याम सिंह ‘शशि’ ने दीप प्रज्ज्वलित करके कार्यक्रम का उद्घाटन किया ।डा. श्याम सिंह ‘शशि’ ने अपने उद्घाटन भाषण में गांधी,अम्बेडकर और भारतीय साहित्य के समग्र अवयवोंपर विशद विचार व्यक्त किए । आथर्स गिल्ड के केन्द्रीय सचिव डा. शिव शंकर अवस्थी ने पूर्व महासचिव श्री राजेन्द्र अवस्थी को श्रद्धांजलि देते हुए उनकी उपलब्धियों एवं संस्था के राष्ट्रीय-अन्तर्राष्ट्रीय परिप्रेक्ष्य का लेखा -जोखा एवं प्रतिवेदन प्रस्तुत किया तथा संस्था के दो नए अध्याय नागपुर और आगरा में बन जाने से इसकी शक्ति और क्षमता बढ़ जाने की जानकारी दी ।
चैन्ने चैप्टर के अध्यक्ष बाला सुब्रमण्यम ने प्रथम सत्र की अध्यक्षता की प्रथम सत्र की गोष्ठी का विषय था ‘गांधी दर्शन और हिन्दी कविता’ इसमें बीज व्याख्यान डा. हीरा लाल बछौतिया ने दिया ।डा. अहिल्या मिश्र ने इस सत्र की अध्यक्षता की । डा. सविता चड्ढा (नई दिल्ली) और मीना खोंड(हैदराबाद) ने अपने प्रपत्र प्रस्तुत किए । डा. अहिल्या मिश्र ने अपने अध्यक्षीय टिप्पणी देते हुए कहा कि गांधी दर्शन पर आधृत रचनाकारों की रचनाओं की विशेष व्याख्या प्रस्तुत की गई है ।यह युगानुरूप व्याख्या थी । तीसरे सत्र में‘डा. भीम राव अम्बेडकर साहेब और हिन्दी कविता” विषय पर प्रपत्र प्रस्तुत किए गए ।इसमें नागपुर विश्व विद्यालय की प्रो. वीणा दाढ़े ने बीज व्याख्यान दिया ।चैन्ने से पधारे श्री सेतुरमण जी ने इस सत्र की अध्यक्षता की।
चतुर्थ सत्र में ‘बाबा साहेब अम्बेडकर और हिन्दी कथा साहित्य पर आधारित प्रपत्र प्रस्तुत किए गए । इसकी अध्यक्षता डा. रमा द्विवेदी ,हैदराबाद ने की।डा.श्याम सिंह शशि ने बीज व्याखयान दिया ।संचालन नागपुर अध्याय की सदस्या मधु गुप्ता ने किया ।डा.रमा द्विवेदी ने अपने अध्यक्षीय उद्बोधन में कहा कि डा. अम्बेडकर ने जब बौद्ध धर्म की दीक्षा लेने की घोषना की तब ईसाई मिशनरियों और मुस्लिम सम्प्रदाय ने उन्हें प्रस्ताव भेजे कि वे उनका धर्म को अपना लें ।हैदराबाद के निज़ाम ने तो उन्हें ब्लैंक चेक तक भेजा था धर्म परिवर्तन के लिए परन्तु उन्होंने मना कर दिया और हजारों श्रद्धालुओं के साथ नागपुर में ही बौद्ध धर्म की दीक्षा ली ।वास्तव में वे हिन्दुत्व में रहकर ही मरना चाह्ते थे’ ।
२८ मई को सायं ६ बजे अखिल भारतीय कवि सम्मेलन हुआ । इसकी संयोजिका डा. सरोजिनी प्रीतम थीं। श्री सेतुरमण इसके अध्यक्ष ,डा अहिल्या मिश्रा विशेष अतिथि ,डा. शिव शंकर अवस्थी महसचिव एवं नागपुर अध्याय के संयोजक श्री नरेन्द्र परिहार ‘एकान्त’ मंचासीन हुए । इस काव्य संध्या में विभिन्न रसयुक्त एवं विविध विषयों की रचनाएं पढी गईं और उपस्थित सभी लोग काव्यधारा से अभिसिक्त हो आनन्द विभोर हो गए । मंचासीन अतिथियों के साथ पद्मश्री डा. श्याम सिंह शशि,डा. हीरा लाल बछौतिया,डा. सविता चड्ढ़ा ,विश्व आलोक (आई ए .एस.)डा. शिव शंकर अवस्थी,डा. अहिल्या मिश्रा,
डा.रमा द्विवेदी,डा. सीता मिश्रा, विनीता शर्मा,मीना खोंड ,एलिजाबेथ कुरिअन,डा.रेखा कक्कड़,डा.अमी अधर निडर,डा.सुषमा सिंह ,श्री महेश सिलवी ,श्री बाला सुब्रमण्यम पी.आर.बासुदेवन शेष,विनीता शर्मा ,ज्योति नारायण,सम्पत मुरारका ,सेतुरमण,सी. मणिकंठन,डा. भारतेन्दु शुक्ल,गुरु प्रताप शर्मा,शशिवर्धन शर्मा ,शैलेश,अरुण मुनेश्वर,मधु गुप्ता, मधु पटौदिया,मधु शुक्ला,प्रभा मेहता,सुधा कौसिव ,एवं उमेश नेमा आदि ने काव्य पाठ किया।
डा. रमा द्विवेदी
( साभार,दैनिक हिन्दी मिलाप,हैदराबाद)
© All Rights Reserved

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

श्रेणी

%d bloggers like this: