Posted by: ramadwivedi | जून 6, 2012

पनपने दो-हाइकु

१- वट न बनो
पनपने दो पौधे
निज छाँव में |

२- नीम का वृक्ष
शीतल छाँव देता
कडुवी दवा |

३- पीपल प्यारा
मलय अनिल दे
गुनगुनाए |

४- प्रेम-प्रतीक
दहकता पलाश
प्रीत जगाए |

५- खिलखिलाए
प्रेम में बिछ जाए
गुलमोहर |

६- आँखों की झील
सागर से गहरी
डूबने वास्ते |

डा.रमा द्विवेदी
© All Rights Reserved

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

श्रेणी

%d bloggers like this: