Posted by: ramadwivedi | जून 12, 2012

पासवर्ड न देना-मुक्तक

1- पाना है मंजिलें तो शिकवे -गिले न करना
दिल में मलाल लेकर कभी रास्ते न चलना
मंजिल को पाने खातिर चलना तुझे ही होगा
मंजिल तुझे मिलेगी पर चलने से न मुकरना |

2- दिल तक पहुँचने का तुम किसी को पता न देना
चाहे रचा लो शादी पर कुछ भी बता न देना
भड़कते हैं सच को सुनकर जीने न देंगे तुझको
रखना जिसे भी दिल में पर पासवर्ड न देना |

डा. रमा द्विवेदी
© All Rights Reserved

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

श्रेणी

%d bloggers like this: