Posted by: ramadwivedi | जुलाई 31, 2012

स्वर्ण जूते-हाइकु

१- बढ़ रही है
तबाही की ही ओर
मानव सोच |

२- स्वर्ण जूते भी
सुरक्षा न दे पाते
बेटियाँ जलें |

३- कैसी ये सोच
पति को फटकार
कुत्ते से प्यार |

४- खुद ही खोजो
कोई न बताएगा
जीने की राह |

५- कौन सुनेगा
वृद्धों की फ़रियाद
क़ानून है क्या ?

डा. रमा द्विवेदी
© All Rights Reserved

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

श्रेणी

%d bloggers like this: