Posted by: ramadwivedi | अक्टूबर 5, 2012

शीत युद्ध है छिड़ा -हाइकु

१– दरकी धरा
शीत युद्ध है छिड़ा
रिश्तों के बीच |

२ – आँख है नम
दोस्त हैं सब वे ही
प्यार है कम |

३ – चंद कतरे
टपक कर गिरे
क्या-क्या न कहें ?

४ – अनाम रिश्ते
आत्मा से चुने जाते
जिस्म से नहीं |

५ – वजूद मेरा
हुक्म चले उनका
बेढब बात |

डा. रमा द्विवेदी

© All Rights Reserved

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

श्रेणी

%d bloggers like this: