Posted by: ramadwivedi | अगस्त 16, 2013

प्रेम की प्यास -हाइगा

Presentation1 pyar ki pyas

Advertisements

Responses

  1. प्रेम की प्यास का इससे ज़्यादा खूबसूरत और क्या चित्रण होगा ! सचमुच प्रेम की पिपासा न बुझती है न बुझनी चाहिए । प्यास ही बुझ जाएगी तो प्रेम भी बुझ जाएगा। इस तरह के चार -पांच हाइकु भी कोई लिख सके तो वह उत्तम हाइकुकार की श्रेणी में आ जाएगा । हाइगा भी सुन्दर बन गया।

  2. आदरणीय हिमांशु जी ,आपका आशीर्वाद पाकर हर्षित हूँ । ….बहुत -बहुत हार्दिक आभार


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

श्रेणी

%d bloggers like this: