Posted by: ramadwivedi | अगस्त 18, 2014

कैद- नारी -ताज़ी क्षणिका

कैद !
लोहे की जंजीरों की हो , या
सोने के पिंजरे की
दोनों में कैद नारी
देखने वाले को भरमाती है
सोने बीच नारी है
या सोने की ही नारी है
और निर्विवाद घोषणा
बहुत किस्मतवाली है ।

डॉ रमा द्विवेदी

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

श्रेणी

%d bloggers like this: