Posted by: ramadwivedi | जून 29, 2018

कभी -कभी -दो मुक्तक

होती नहीं मंजूर   सदाएँ  कभी- कभी
बढ़ती ही रहती हैं व्यथाएँ कभी -कभी
ज़िंदगी के दर्द से  न हार जाना तुम
मिलती  हैं ईश की  ही दुआएँ  कभी -कभी |
*****************************
कभी -कभी ही आता है वो
प्रेम का पाठ  पढ़ाता  है वो |
कभी जीत  से , कभी हार से
सबको सबक सिखाता है वो ||
** डॉ. रमा द्विवेदी**

 

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

श्रेणी

%d bloggers like this: