Posted by: ramadwivedi | मार्च 27, 2019

अंतिम निर्णय -लघुकथा

पड़ोसन की बेटी जूली का प्रेम लवलीन से था और माँ बाप ने दोनों के प्रेम को स्वीकृति देते हुए उनकी सगाई भी कर दी थी | शादी की तारीख भी तै हो गई थी लेकिन अचानक ही एक दिन जूली का कै – दस्त की गंभीर शिकायत हुई | अपने परिवार के डॉक्टर को दिखा कर उसने दवा ले ली | पर पता नहीं क्या हुआ ? कै -दस्त तो बंद हो गए लेकिन जूली पूरी तरह से अंधी हो गई |
शादी रोक दी गई| बहुत इलाज करवाया गया लेकिन जूली की आँख की रोशनी वापस नहीं आई |
“जूली मैं अब भी तुमसे ही शादी करना चाहता हूँ बस तुम हाँ कर दो”| लवलीन ने कहा |
“ अब मैं तुमसे शादी नहीं कर सकती लवलीन अगर तुम चाहो तो मेरी छोटी बहन से शादी कर सकते हो ”|
“नहीं मैं उससे शादी नहीं कर सकता क्योकिं मैं तुमसे प्रेम करता हूँ ”|
“मैं तुमसे अब शादी नहीं कर सकती क्योंकि मैं जीवन भर तुम्हारी दया का बोझ नहीं उठा पाऊँगी | यह सच है कि हम प्रेम करते थे लेकिन अब स्थितियाँ बदल गईं हैं | प्रेम भावना प्रधान अवश्य होता है लेकिन जीवन सिर्फ भावुकता से नहीं चल सकता और अब शादी न करने का यह मेरा अंतिम निर्णय है ”| जूली यह कहकर चुप हो गई |

-डॉ. रमा द्विवेदी

@सर्वाधिकार सुरक्षित

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

श्रेणी

%d bloggers like this: